होम/साईं संग्रह/तुम्हारी जेब में पैसा ही पैसा

sai baba

साईं बाबा अपने शिष्य के साथ बैठे आध्यात्मिक विषय पर बातें कर रहे थे कि तभी एक बूढ़ा व्यक्ति रोता-पीटता आया और हाथ जोड़कर साईं बाबा के सामने आकर जोर-जोर से रोने लगा|
'क्या हो गया बाबा ?' - एक शिष्य ने उस बूढ़े से पूछा|
'मेरा जवान लड़का मर गया| मेरे पास उसे कफन-दफन करने के लिए एक पैसा भी नहीं|' वह निरंतर आँसू बहाये जा रहा था|
साईं बाबा ने उसकी ओर देखा और पूछा -
'कब मरा लड़का ?'
'आज दोपहर| मैं कई जगह गया, पर किसी ने मेरी कोई मदद नहीं की|'
'जब तुम्हारे पास स्वयं ही इतने सारे रुपये हैं, तो कोई तुम्हारी मदद क्यों करता|' यह कहकर साईं बाबा हँसने लगे|
'साईं बाबा !' बूढ़ा गिड़गिड़ाकर बोला - 'मेरे पास तो इस समय एक फूटी कौड़ी भी नहीं है|'
'झूठ बोलते हो|' साईं बाबा ने कहा - 'अपनी जेब में हाथ डालो| वहां पैसा-ही-पैसा भरा पड़ा है|'
जब उस बूढ़े ने जेब में हाथ डाला, अचानक ढेरसारे नोट निकल आये| वह हैरानी से देखता रह गया| आश्चर्य के मारे आँखें फटी-सी रह गयीं|
'जाओ, अपना काम करो|' साईं बाबा ने कहा|
वह बूढ़ा साईं बाबा की जय-जयकार करता वहां से चला गया| सारे शिष्य हैरानी के साथ सारा दृश्य देखते रह गये| उस बूढ़े की फटी हुई जेब से रुपया-ही-रुपया निकलना बहुत ही आश्चर्य की बात थी| सबने इसे साईं बाबा का एक चमत्कार माना और बाबा कि जय-जयकार करने लगे| साईं बाबा का यह चमत्कार अद्भुत था|

Content
Content